गांवों में 10 रुपये में LED बल्ब देगी सरकार, योजना को जानिए विस्तार से - Bihari karezza - Khabre Bihar Ki

Breaking

बुधवार, 12 अगस्त 2020

गांवों में 10 रुपये में LED बल्ब देगी सरकार, योजना को जानिए विस्तार से

 New Delhi: केंद्र सरकार की उजाला योजना तो आपको याद होगी ही. इस योजना के तहत केंद्र सरकार ने बेहद सस्ती दरों पर एलईडी बल्ब बेचे थे. ये योजना इतनी सफल रही है कि 320 रुपये में मिलने वाली एलईडी बल्ब आज की तारीख में महज़ 70 रुपये में मिल रही है. इस योजना को अब केंद्र सरकार आगे बढ़ाने की तैयारी में है.


Ujjawala yojana


सरकार 'ग्राम उजाला' नाम से गांव में एलईडी बल्ब की योजना तैयारी कर रही है. इस योजना के तहत 10 रुपये में गांवों में एलईडी बल्ब बेचे जाएंगे. इस योजना को उजाला योजना का क्रियान्वयन करने वाली एनर्जी एफिशिएंसी सर्विसेज लिमिटेड (EESL) ही गांव-गांव तक पहुंचाएगी.

कैसे मिलेगा 10 रुपये में बल्ब?

EESL के डायरेक्टर (प्रोजेक्ट्स) वेंकटेश द्विवेदी ने एबीपी न्यूज़ से खास बातचीत में बताया कि कंपनी जल्द ही देशभर के गांव के लिए एलईडी बल्ब देने की योजना लॉन्च करने की तैयारी में है. उन्होंने बताया कि शुरुआत में कंपनी 5 करोड़ ग्रामीण परिवारों को तीन बल्ब प्रति परिवार के हिसाब से देने पर विचार कर रही है.

यानी शुरुआत में कुल मिलाकर 15 करोड़ एलईडी बल्ब देने की योजना है. उन्होंने बताया कि शुरुआत में बल्ब की कीमत 15 से 20 रहने की उम्मीद है. हालांकि आगे चलकर जब एलईडी बल्ब की मांग गांव में ज्यादा बढ़ेगी, तो यह कीमत 10 प्रति बल्ब पहुंचने की उम्मीद है.

कार्बन फाइनेंस से आएगा पैसा

यहां गौर करने वाली बात यह है कि 70 रुपये का बल्ब अगर 10 रुपये में गांव में मिलता है, तो आखिर यह मुमकिन होगा कैसे? इस योजना के लिए ना तो केंद्र सरकार पैसा दे रही है और ना ही कंपनी अपने पास से फंडिंग कर रही है. इस बारे में द्विवेदी ने बताया कि उजाला योजना के तहत अभी तक 36 करोड़ से ज्यादा एलईडी बल्ब दिए गए हैं.

इन बल्ब से 475 6.8 करोड़ यूनिट बिजली बची है. इसी के बदले कार्बन क्रेडिट मिले हैं. इन्हीं कार्बन क्रेडिट को बाजार में ट्रेड कर कंपनी को पैसा मिलेगा. इस पैसे का इस्तेमाल करते हुए गांव में सस्ते बल्ब मुहैया कराए जाएंगे. उन्होंने बताया कि शुरुआत में यह एलईडी बल्ब 15 से 20 में मिलने की उम्मीद है.

हालांकि जब गांव में मांग बढ़ेगी तो यह बल्ब 10 रुपये की कीमत में भी गांव में बेचा जा सकेगा. उन्होंने बताया कि अगले 6 महीने के अंदर उम्मीद है कि इस योजना को लॉन्च कर दिया जाएगा.

न्यूज़ डेस्क

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

अपना सुझाव यहाँ लिखे