CBI क्या है? और कैसे जांच करती है - Bihari karezza - Khabre Bihar Ki

Breaking

गुरुवार, 20 अगस्त 2020

CBI क्या है? और कैसे जांच करती है

 वर्तमान में चल रहे सुशांत सिंह राजपूत की आत्महत्या मामले में सुप्रीम कोर्ट के फैसले में सीबीआई जांच के आदेश दिए गए हैं। इसके बाद ये जानना जरूरी हो गया है। कि सीबीआई कैसे जाँच करती है। क्यों लोगों को सीबीआई के जाँच पे भरोसा है। आपको बता दें कि सीबीआई एक केंद्रीय जांच एजेंसी है। जो राष्ट्रीय और अंतराष्ट्रीय स्तर पर हत्या, घोटाले, भ्रष्टाचार  सरकार की तरफ से राष्ट्रीय हित सम्बंधित जाँच करती है।


Central Bureau Of Investigation (CBI)



CBI का इतिहास

1941 में एक विशेष पुलिस  (SPI) की स्थापना की गई थी। 1963 में सीबीआई की स्थापना भारत सरकार की रक्षा से सम्बंधित अपराध, उच्च पदों पर भ्रष्टाचार, बड़ी धोखाधड़ी ,सामाजिक अपराध ,अखिल भारतीय और अन्तर्राज्यीय मामले और जरूरतपूर्ण वस्तुओं में काला बाजारी की जाँच के लिए सीबीआई की स्थापना की गई। सीबीआई को दिल्ली पुलिस  एस्टेब्लिशमेंट अधिनियम 1946 के तहत अपनी विशेष कानूनी  शक्तियाां प्राप्त हैैं। यह अधिनियम सीबीआई को सिर्फ उन मामलों की जाँच करने की अनुमति देती है। जिसकी केंद्र सरकार द्वारा अधिसूचना जारी की जाती है।


CBI कब किसी केस को अपने अंदर लेती है।

जिस राज्य में अपराध की जांच होनी है अगर राज्य सरकार इसकी सिफारिश केंद्र सरकार से करती है। और केंद्र सरकार सहमत होती है (अक्सर निर्णय लेने से पहले  केंद्र सरकार सीबीआई से उसकी राय की मांग करती है) फिर  राज्य सरकार DSPE अधिनियम 6 के तहत सहमति की सूचना जारी करती है। फिर केंद्र सरकार DSPE अधिनियम 5 के तहत सूचना जारी करती है। जरूरत पड़ने पर केेंद्र सरकार अधिनियम 5 के तहत अपराध के जांच के लिये सीबीआई की ताकत और क्षेत्र के दायरे को बढ़ा सकती है। मगर ये शक्ति धारा 6 के तहत सीमित होती है।


सीबीआई किस तरह के मामले की जाँच करती है।

वर्तमान समय में सीबीआई की जांच की तीन विभाग है। 

एन्टी करप्शन डिवीज़न (ACD) :- यह विभाग भर्ष्टाचार निवारण 1988 के तहत सार्वजनिक अधिकारियों और केंद्र सरकार सार्वजनिक क्षेत्र, निगमों जो भारत सरकार के नियंत्रण में हैं। उसकी जांच करती है। यह सीबीआई का सबसे बड़ा विभाग है जिसकी भारत के लगभग सभी राज्यों में उपस्थित है।

इकोनॉमिक ऑफ्फेन्स डिवीज़न (EOD) :- यह विभाग महत्वपूर्ण वित्तिय घोटाले,गम्भीर आर्थिक धोखाधड़ी और साइबर अपराध से सम्बंधित शामिल है। जिसकी जांच ये विभाग करता है।

स्पेशल क्राइम डिवीज़न (SCD) :- यह विभाग राज्य सरकार के सिफारिश,उच्चतम न्यायालय और उच्च न्यायालय के आदेश पर भारतीय दंड सहिंता और दूसरे कानून तहत जटिल और सनसनीखेज वारदातों या अपराधों की जांच करती है। यही विभाग सुुशांत सिंह राजपुत मामले की जांच करेगी।


उच्चतम और उच्च न्यायालय के पास है विशेष अधिकार दे सकते हैं CBI को कही भी जांच करने का आदेश

वैसे तो डीएसपीई अधिनियम के धारा 6 के तहत बिना राज्य सरकार के सहमति के बिना उस राज्य में सीबीआई की अधिकार क्षेत्र को बढ़ाया नहीं जा सकता है। लेकिन उच्चतम न्यायालय और उच्च न्यायालय सीबीआई को उस राज्य में कहीं भी जांच करने का आदेश दे सकती हैं।


 क्या सामान्य नागरिक अपने सामान्य मामले की जांच के लिए सीबीआई से सम्पर्क कर सकता है?

आप सभी को मालूम है कि सीबीआई सामान्य मामलों की जांच नहीं करती क्योंकि उसके लिए राज्य पुलिस है। लेकिन अगर मामला केंद्र सरकार की जन सेवकों की हो या उनके घोटाले की हो। तब आप सीबीआई के नजदीकी शाखा में संपर्क कर सकते हैं।

✍🏻 सूर्याकांत शर्मा

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

अपना सुझाव यहाँ लिखे