बिहार के वैशाली जिले में स्थित अशोक स्तम्भ की हालत दयनीय - Bihari karezza - Khabre Bihar Ki

Breaking

शुक्रवार, 7 अगस्त 2020

बिहार के वैशाली जिले में स्थित अशोक स्तम्भ की हालत दयनीय

 सम्राट अशोक के द्वारा बिहार के वैशाली जिले में में बनवाया गया अशोक स्तम्भ की हालत खराब होती जा रही है। अभी बिहार में बाढ़ की स्थिति है। जिसके कारण इस स्तम्भ के परिसर में पानी लगा हुआ है और नहर में पानी आने के वजह से पानी निकल नहीं पा रहा है। जिसके वजह से यह कमजोर हो रहा है। इधर क्रोना वायरस के कारण पर्यटकों की संख्या भी न के बराबर थी। अब बाढ़ आ जाने के कारण यह ऐतिहासिक स्तम्भ खतरे में है। इसपे सरकार को ध्यान देने की आवश्यकता है।



ऐसा कहा जाता है कलिंग विजय के बाद सम्राट अशोक बौद्ध धर्म का अनुसरण करने लगे। और वैशाली में एक अशोक स्तम्भ बनवाये क्योंकि भगवान बुद्ध ने वैशाली में अपना अंतिम धर्मविषयक व्याख्यान दिया था। यह स्तम्भ लगभग 8 एकड़ में फैला हुआ है। इसकी ऊंचाई 18.3 मीटर है। इसे लाल बलुआ पत्थर से बनाया गया है। इस स्तम्भ के ऊपर एक शेर की आकृति है। जो अन्य स्तम्भों से अलग है। उस शेर का मुख उत्तर दिशा की ओर है। ऐसा माना जाता है कि यह दिशा भगवान बुद्ध की अंतिम यात्रा की दिशा है। इसके बगल में एक ईंट का स्तुप और एक तालाब है जिसे रामकुंड के नाम से जाना जाता है। सम्राट अशोक ने बहुत जगहों पे स्तम्भ बनवाये हैं। जैसे दिल्ली, चेन्नई, सारनाथ(उ०प्र०) और लुम्बिनी(नेपाल) में बनवाया है। भारत ने इस स्तम्भ को अपने राष्ट्रीय प्रतीक के रूप में अपनाया है और अशोक चक्र को तिरंगा के बीच में रखा गया है।


📝 सूर्याकांत शर्मा

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

अपना सुझाव यहाँ लिखे