रुला गए धोनी, क्रिकेट में अब दूसरा विश्व विजेता धोनी नहीं आएगा - Bihari karezza - Khabre Bihar Ki

Breaking

रविवार, 16 अगस्त 2020

रुला गए धोनी, क्रिकेट में अब दूसरा विश्व विजेता धोनी नहीं आएगा

 ये खबर नहीं है. ये दर्द है जो मैं अभी लिख रहा हूँ. शाम में एक खबर आई, करीब शाम साढ़े सात बजे भारतीय क्रिकेट के कोहिनूर ने सोशल मीडिया के ज़रिए अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से संन्यास का एलान कर दिया. मुझ जैसे धोनी के करोड़ो फैन यह विश्वास नहीं कर पा रहे है कि एकाएक धोनी ने संन्यास कैसे ले लिया. कम-से-कम आखिरी मैच तो खेल के जाते इतनी जल्दी भी क्या थी.


Dhoni retire


छोटे शहरों के लड़के को बड़ा ख्वाब देखना सिखाया

झारखंड के एक आम परिवार का लड़का जो टीटी का जॉब करता है. और उस जॉब को छोड़ कर क्रिकेट खेलने लगता है. तब भी शायद ही किसी ने सोचा होगा कि यह लड़का इतना आगे निकल जाएगा जँहा उसके टक्कर का कोई नहीं होगा. धोनी ने सिर्फ बड़ा सपना देखना ही नहीं सिखाया. बल्कि यह भी सिखाया की कैसे बड़े से बड़े सपने को विनम्रता के साथ लगातार मेहनत के बल पर जीता जा सकता है. तो धोनी ने खेलना और जितना सिखाया.

आपको बता दें कि महेंद्र सिंह धोनी ने साल 2004 में भारत के लिए डेब्यू किया था. धोनी को ग्रेट फिनिशर के नाम से जाना जाता रहा है. साल 2008 और 2009 में धोनी को ICC वनडे प्लेयर का खिताब मिल चुका है. धोनी ने अपने क्रिकेट करियर में वो तमाम चीज़ें हासिल की, जिसे पाने का ख्वाब हर खिलाड़ी देखता है. छोटे शहर से आने वाले धोनी ने पूरी दुनिया में अपने नाम का परचम लहराया.

M S dhoni

भारत को बनाया विश्व विजेता

2011 वर्ल्ड कप का वह आखिरी छक्का किसे याद नहीं है. भारत 28 वर्ष के लंबे अंतराल के बाद धोनी के कप्तानी में विश्वकप जीता था. धोनी के कप्तानी में भारत ने टी-20 वर्ल्ड कप जीता, चैंपियनस ट्रॉफी जीता. क्रिकेट के तीनों फॉर्मत में देश लंबे समय तक नंम्बर एक पर काबिज़ रहा.

यादगार रहा करियर

धोनी ने अपने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट करियर में 90 टेस्ट, 350 वनडे और 98 टी-20 मैच खेले हैं. टेस्ट में धोनी ने 144 पारियों में 38.09 की एवरेज के साथ 4876 रन बनाए, जबकि वनडे की 297 पारियों में 50 से ज्यादा की औसत के साथ उन्होंने 10773 रन बनाए हैं. बात टी-20 की करें तो उन्होंने 85 पारियों में करीब 38 की औसत से 1617 रन बनाए हैं.


धोनी ने वनडे में 10 शतक और 73 अर्धशतक जड़े हैं. टेस्ट में उन्होंने 6 शतक और 33 पचासा अपने नाम किया है, जबकि टी-20 में करियर में दो अर्धशतक बनाए हैं.

आम लोगों के प्रिय खिलाड़ी के कुछ रिकॉर्ड पर नजर डालते है

1. धोनी के नाम ICC की तीनों बड़ी ट्रॉफी है. जिसमें 2007 का वर्ल्ड टी-20, 2011 का वर्ल्ड कप और 2013 का आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी शामिल है. धोनी टीम इंडिया को आईसीसी टेस्ट रैंकिंग में टॉप पर लेकर जा चुके हैं.


2. धोनी तीसरे सबसे सफल विकेटकीपर है, जिन्होंने अपने 500 मैच में 780 खिलाड़ियों को पवेलियन भेजा है. इसमें सबसे पहले नंबर पर दक्षिण अफ्रीका के मार्क बाउचर हैं और दूसरे स्थान पर ऑस्ट्रेलिया के एडम गिलक्रिस्ट हैं. जिन्होंने 998 और 905 खिलाड़ियों को वापस भेजा है.


3. धोनी के नाम सबसे ज्यादा स्टंपिंग करने का भी रिकॉर्ड है. उन्होंने अभी तक कुल 178 स्टंपिंग्स की है.


4. टी-20 में धोनी सबसे सफल विकेटकीपर रहे हैं, जहां उनके नाम 82 शिकार है.


5. एमएस धोनी ने अपना पहला वनडे और टेस्ट शतक पाकिस्तान के खिलाफ मारा था, जहां उन्होंने 148 रनों की शानदार पारी खेली थी.


6. धोनी ने वनडे मुकाबलों में अभी तक कुल 217 छक्के मारे हैं. धोनी इस लिस्ट में चौथे स्थान पर हैं. कप्तान के तौर पर भी धोनी ने सबसे ज्याद छक्के लगाए हैं.


7. धोनी के नाम एक और अनोखा रिकॉर्ड है, जहां उन्होंने सबसे ज्यादा रन बनाए हैं, वो भी बिना हॉफ सेंचुरी मारे. धोनी ने 1000 रन बिना किसी अर्धशतक के बनाए हैं.


8. 7वें नबंर पर बल्लेबाजी करते हुए धोनी ने सबसे ज्यादा शतक मारे हैं. इस क्रम पर बल्लेबाजी करते हुए धोनी के नाम कुल 2 शतक हैं.


9. धोनी कुल 9 बार गेंदबाजी की है, जहां उनका पहला विकेट 2009 में वेस्टइंडिज के खिलाफ आया था.


10. एफ्रो एशियन कप में महेला जयवर्धने के साथ 218 रनों का पार्टनरशिप अभी तक का सबसे बड़ी पार्टनरशिप है जो, एक वर्ल्ड रिकॉर्ड है.


11. धोनी पहले ऐसे खिलाड़ी हैं जिनके नाम लगातार दो बार ICC वनडे क्रिकेटर ऑफ द ईयर का अवॉर्ड है.

बहुत न्यूज़ देख लेने के बाद, इतना लिख देने के बाद भी विश्वास नहीं हो रहा. लग रहा जैसे एक अफ़वाह खबर लिख रहा हूँ कि धोनी ने संन्यास ले लिया. प्रिय खिलाड़ी ऐसे नहीं जाना था, अभी नहीं जाना था.

Dhoni finishes off in style! India lift the world cup after 28 years



✍️सिंह आदर्श

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

अपना सुझाव यहाँ लिखे