केरल के कोझिकोड एयरपोर्ट पे हुए विमान हादसे के बाद पटना एयरपोर्ट के खामियों को लेकर उठने लगे हैं सवाल - Bihari karezza - Khabre Bihar Ki

Breaking

रविवार, 9 अगस्त 2020

केरल के कोझिकोड एयरपोर्ट पे हुए विमान हादसे के बाद पटना एयरपोर्ट के खामियों को लेकर उठने लगे हैं सवाल

 केरल के कोझिकोड एयरपोर्ट पर बीते शुक्रवार को हुए विमान हादसा जिसमें 17 लोगों की मौत हो गई। और 120 लोगों की घायल होने की खबर है। लेकिन इस हादसे के बाद पटना एयरपोर्ट के खामियों पे सवाल उठने लगे हैं। पटना एयरपोर्ट की लंबाई बहुत कम है। केरल के कोझिकोड एयरपोर्ट की लंबाई 9 हजार फीट है। जबकि पटना एयरपोर्ट की लंबाई मात्र 65 सौ फीट है। जो बड़े विमानों को उतरने के लिये पर्याप्त नहीं है। रनवे छोटा होने की वजह से पायलट को लैंडिंग के समय जोर से ब्रेक लगाना पड़ता है। इसकी कम्पन से यात्री भी सहम जाते हैं।

Patna airport


पटना एयरपोर्ट का परिसर भी छोटा है। जिसकी वजह से पायलट को लैंडिंग और टेकऑफ के दौरान उड़ान नीची रखनी पड़ती है। अगर वह उड़ान नीची नहीं रखेंगे तो विमान लैंडिंग के समय टच पॉइंट से आगे निकल सकती है और हादसे का शिकार हो सकती है। सचिवालय वाच टावर भी एक समस्या है। अगर किसी कारण विमान को दोबारा उड़ान भरना पड़े तो डर रहता है कि कहीं विमान इस वाच टावर से टकरा न जाए।


एयरपोर्ट से सटे इलाकों में सुरक्षा मानकों से ज्यादा ऊंचे घर


पटना एयरपोर्ट के बगल में फुलवारीशरीफ में मानकों से ज्यादा ऊंचे घर हैं जो खतरनाक हो सकते हैं।अगर किसी वजह से विमान को एयरपोर्ट के इर्द-गिर्द आसमान में चक्कर लगाने पड़े तो समस्या हो सकती है। इसके आलावा पक्षियों की टकराने की घटना। एयरपोर्ट के बगल में बहुत सारे मांस- मछली की दुकानें है। जिससे उस इलाके में पक्षियों का जमावड़ा रहता है। पहले कई बार विमानों का टकराव पक्षियों से हो चुकी है। पटना एयरपोर्ट पे इन्हे सुधारने का काम चल रहा है। लेकिन निर्माण परियोजना काफी धीमी है। सर्दी के मौसम में विजिबिलिटी की समस्या होती है। हाल ही में एयरपोर्ट प्रशासन के तरफ से कुछ लाइट लगाये गए हैं विजिबिलिटी को सही करने के लिए। जिससे विमान के लैंडिंग में आसानी हो। एयरपोर्ट प्रशासन की योजना 420 मीटर तक विजिबिलिटी ले जाने की योजना है। एयरपोर्ट के टर्मिनल बिल्डिंग के काम के लिये 1200 करोड़ से अधिक की राशि खर्च करने की योजना है। केरल में हुए विमान हादसे से सबक लेते हुए पटना एयरपोर्ट की खामियों को जल्द से जल्द दुरुस्त करने कि आवश्यकता है।

📝सूर्याकांत शर्मा


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

अपना सुझाव यहाँ लिखे