रील के साथ-साथ रियल हीरो साबित हुए सोनू सूद, जैसा फिल्मों में होता है हो रहा है हूबहू - Bihari karezza - Khabre Bihar Ki

Breaking

शुक्रवार, 28 अगस्त 2020

रील के साथ-साथ रियल हीरो साबित हुए सोनू सूद, जैसा फिल्मों में होता है हो रहा है हूबहू

 पूरा विश्व कोरोना काल के संकट से गुजर रहा था अपना देश भी चपेट में आया. और इस कोरोना के आते ही चौतरफा संकट ने हमें घेर लिया. प्रवासी मजदूर मजबूरन प्रदेश छोड़ कर अपना गाँव लौटना चाह रहे थे. पैसे और सुविधा के अभाव ने उन्हें हजारों किलोमीटर पैदल चलने पर मजबूर कर दिया. एक से एक दिल दहला देने वाली तस्वीरें सामने आई. कई मौतें हुई. इस बीच कुछ हाथ थे जो इन असहायों का सहारा बना. और इसमें सबसे मजबूत हाथ रहा अभिनेता सोनू सूद का, जो अब सब के रील हीरो से प्रिय रियल हीरो बन गए है.


Sonu sood


कहते है मानवता की सेवा करने वाले हाथ उतने ही धन्य होते है जितने परमात्मा की सच्चे दिल से प्रार्थना करने वाले होंठ. सोनू सूद का हाथ जनसेवा करके धन्य हो गया. इतना बड़ा अभिनेता जब किसी आम इंसान के एक ट्वीट पर मदद कर देता था वह भी एकदम फिल्मी अंदाज में तो एक गाने का पंक्ति सच होते दिख रहा था जो अभी भी दिख रहा है. जैसा फिल्मों में होता है हो रहा है हूबहू, ऐसा ही तो हो रहा है. किसी को एक ट्वीट पर मुम्बई से पटना पहुँचा देना. सैकड़ो बसों से लगातार लोगों को उसके घर भेजना. विदेश से लोगों को बुलवाना. ये सब शायद ही किसी आम इंसान ने एक फ़िल्म के हीरो से उम्मीद किया होगा. लेकिन इस संकट में इस हीरो के एंट्री जरूर फिल्मी अंदाज में हुई लेकिन काम एकदम जमीनी हुआ.


खुद से सबकुछ मॉनिटर कर रहे थे सोनू

ऐसा नहीं है कि कोरोना से डर कर सोनू सूद घर में बैठ कर कुछ फंड दे कर शांत हो गए. लगातार खुद से सभी जनसेवा कार्यों को मॉनिटर किया. लगातार सक्रिय रहे. लोगो को जब बसों से उनके घर के लिए छोड़ा जा रहा था तब भी सोनू सूद वहां मौजूद दिखें. खुद से बड़े स्तर पर लोगों के ट्वीट और मैसेज का जवाब दिया. इनके मैसेज ने, रेस्पॉन्स ने निराश हो चुके लोगों में ऊर्जा डालने का कार्य किया.


बाढ़ में भी कर रहे सेवा, चंपारण में भिजवा दिया भैंस खरीदने का पैसा

सोनू सूद कोरोना में बेहतर कार्य किए है जो कि अभी भी जारी है. इसके अलावा बिहार और असम बाढ़ में भी हरसम्भव मदद लोगों तक पहुँचाने का कार्य कर रहे है. चंपारण के बाढ़ग्रस्त इलाके में एक व्यक्ति को भैंस खरीदने तक का पैसा दे दिया. और उस पर बोले कि मुझे इतनी खुशी अपनी पहली कार खरीदते समय भी नहीं हुई थी. एक छात्रा का पूरा किताब डूब कर खराब हो गया था. उसका वीडियो वायरल हुआ तो उसके पढ़ने का प्रबंध कराया.


अभिनेता सोनू सूद ने साबित कर दिया  दूसरों के लिए जिया जाने वाला जीवन ही लाभप्रद है. और संकट के घड़ी में एक दूसरे की मदद कर के ही इंसानियत को बचाई जा सकती है.  और इंसनायित का अद्भुत मिसाल इस अभिनेता में पेश किया है. इस आलेख में तो इनके द्वारा किया गया चंद काम ही बताया गया है. इस संकट काल में इनके कार्यो की लिस्ट लंबी है.

टीम बिहारी करेजा इनके इस जज्बे को सलाम करती है.


✍️ सिंह आदर्श

कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

अपना सुझाव यहाँ लिखे