भारत के 8 समुद्री तटों को मिला ब्लू फ्लैग सर्टिफिकेट अब होंगे ये फायदे - Bihari karezza - Khabre Bihar Ki

Breaking

मंगलवार, 13 अक्तूबर 2020

भारत के 8 समुद्री तटों को मिला ब्लू फ्लैग सर्टिफिकेट अब होंगे ये फायदे

 स्वच्छता का सर्वोच्च मानक 'ब्लू फ्लैग' सर्टिफिकेशन से देश के आठ समुद्री तटों को सम्मानित किया गया। पर्यावरण मंत्रालय ने 11 अक्टूबर 2020 को इस बात की जानकारी दी। इस सम्मान के मिलते ही भारत दुनिया के उन 50 देशों में शामिल हो गया। जिनके पास ब्लू फ्लैग दर्जा प्राप्त समुद्री तट मौजूद है।


Kasarkod beach Karnataka


पहला देश बना भारत जिसके 8 तटों को एक साथ यह सम्मान मिला

 केंद्रीय पर्यावरण मंत्री प्रकाश जावेड़कर ने दावा किया है कि दुनिया के किसी भी देश के 8 समुद्री तटों को एक साथ यह सम्मान नहीं मिला है। केंद्रीय पर्यावरण मंत्री ने ब्लू फ्लैग मिलने को देश के लिए गर्व का क्षण बताया है। उन्होंने दावा किया है कि भारत एशिया पैसेफिक क्षेत्र में महज 2 साल के अंदर ब्लू फ्लैग पाने वाला पहला देश है।


Golden beach odisha

13 समुद्री तटों में से 8 के नाम को भेजा गया था 

वर्ष 2018 में पर्यावरण वन एवं जलवायु परिवर्तन मंत्रालय द्वारा देश के 13 समुद्री तटों को चिन्हित किया गया था। जिसमें से 8 तटों के नाम 18 सितम्बर को भेजे गए थे। और ये तट ब्लू फ्लैग मानकों के अनुरूप पाए गये।


Kappad beach kerala

देश के इन समुद्री तटों को मिला ब्लू फ्लैग सम्मान

घोघाला बीच(दीव),राधानगर बीच(अंडमान और निकोबार द्वीप समूह),कप्पड़ बीच(केरल),गोल्डन बीच(ओडिशा),पदुबिदरी और कासरकोड बीच(कर्नाटक),शिवराजपुर बीच(गुजरात) और रुशीकोंडा बीच(आंध्र प्रदेश)।


Shivrajpur beach Gujrat

एफईई जैसे प्रतिष्ठित संगठनों के द्वारा दिया गया ये सम्मान

ब्लू फ्लैग कार्यक्रम को डेनमार्क के 'फाउंडेशन फॉर एनवायरनमेंट एजुकेशन के द्वारा संचालित किया जाता है। जिसे विश्व स्तर पर सबसे ज्यादा मान्यता प्राप्त ईको लेबल में से एक माना जाता है। पर्यावरण मंत्रालय के अनुसार देश के 5 राज्यों और दो केंद्रशासित प्रदेशों में स्थित 8 समुद्री तटों को एक इंटरनेशनल ज्यूरी द्वारा ब्लू फ्लैग के लिए चुना गया। इसमें संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम (UNEP), फाउंडेशन फॉर एनवायरनमेंटल एजुकेशन (FEE),संयुक्त राष्ट्र विश्व पर्यटन संगठन (UNTWO) और इंटरनेशनल यूनियन फॉर कंजर्वेशन ऑफ नेचर (IUCN) जैसे प्रतिष्ठित संगठनों के सदस्य इस ज्यूरी का हिस्सा थे।


Radhanagar beach Andaman &Nicobar

एशिया का चौथा देश बना भारत

भारत ब्लू फ्लैग दर्जा प्राप्त समुद्री तटों वाला एशिया का चौथा देश बना। पर्यावरण मंत्रालय के अनुसार एशिया में इससे पहले तक दक्षिण कोरिया, जापान और यूएई के समुद्री तटों को ब्लू फ्लैग का दर्जा प्राप्त है।


Rushkonda beach Andhra pradesh


ब्लू फ्लैग मिलने के मानक और लाभ

ब्लू फ्लैग सर्टिफिकेट के लिए कुछ प्रमुख मानक जैसे कचड़े का निपटारण की सुविधा उपलब्ध होना,पानी की गुणवत्ता,प्राइमरी मेडिकल इक्विपमेंट की उपलब्धता,जानवरों को तटों पर आना प्रतिबंधित हो और पर्यावरण प्रबंधन व संरक्षण की सुविधा उपलब्ध  जैसे  कुल 33 मानक हैं।


Ghoghala beach Diu


जब किसी समुद्री तट को यह सर्टिफिकेट मिलता है तो उस समुद्र तट को दुनिया का सबसे स्वच्छ समुद्री तटों में से एक माना जाता है। जिससे पर्यटक आकर्षित होते हैं और उस जगह आना पसंद करते हैं। खास तौर पर फॉरेनर टूरिस्ट किसी भी समुद्री तटों पे जाने से पहले ब्लू फ्लैग मानक को देखते हैं। और इन तटों के मानक भी अंतराष्ट्रीय स्तर के हो जाएंगे।



फाउंडेशन फॉर एनवायरनमेंट एजुकेशन(FEE)

फाउंडेशन फॉर एनवायरनमेंट की स्थापना वर्ष 1985 में फ्रांस में की गई थी।


Padubidri beach Karnataka

इसने 1987 में कार्य प्रारंभ किया। इसने 4664 समुद्री तटों को ब्लू फ्लैग का दर्जा दिया है। सबसे ज्यादा स्पेन 566 जो पहले स्थान, ग्रीस 515 दूसरे स्थान और फ्रांस 395 तीसरे स्थान पर हैं। जिनके समुद्री तटों को ब्लू फ्लैग सर्टिफिकेट प्राप्त है।

✍️✍️  सूर्याकांत शर्मा ✍️✍️






1 टिप्पणी:

अपना सुझाव यहाँ लिखे