मिर्जापुर 2 के मेकर्स ने 'धब्बा' उपन्यास के लेखक सुरेंद्र मोहन पाठक से माफी मांगी - Bihari karezza - Khabre Bihar Ki

Breaking

रविवार, 1 नवंबर 2020

मिर्जापुर 2 के मेकर्स ने 'धब्बा' उपन्यास के लेखक सुरेंद्र मोहन पाठक से माफी मांगी

 हाल ही में आये वेबसेरीज़ मिर्जापुर 2 के एक सीन को लेकर छिड़े विवाद में अब मिर्जापुर 2 के निर्माताओं ने हिंदी उपन्यास- कार सुरेंद्र मोहन पाठक से माफी मांग ली है। उन्होंने इस विवादित सीन को हटाने की बात कही है। एक्सेल एंटरटेनमेंट के ऑफिशियल ट्विटर हैंडल से एक क्षमा पत्र साझा किया गया है। इस पत्र में इस सीरीज के राइटर और क्रिएटर पुनीत कृष्णा के सिग्नेचर किया हुआ है। आपको बता दें कि एक्सेल एंटरटेनमेंट रितेश सिधवानी और फरहान अख्तर की प्रोडक्शन कंपनी है।


Kulbhushan Kharbanda & Surendra Mohan Pathak

प्रिय सुरेंद्र मोहन पाठक, यह आपके द्वारा भेजे गए नोटिस से हमारे ध्यान में आया है कि हाल ही में रिलीज वेबसेरीज मिर्जापुर 2 में एक सीन है। जिसमें सत्यानंद त्रिपाठी नाम के किरदार 'धब्बा' उपन्यास को पढ़ रहा है, जिसे आपने लिखा है। और साथ ही उस सीन में उपयोग हुए वायसओवर से आपकी और आपके प्रशंसकों की भावनाएं आहत हुई हैं। हम इसके लिए आपसे माफी मांगते हैं और आपको बताना चाहते हैं कि यह किसी भी तरह से आपकी प्रतिष्ठा को नुकसान करने के लिए नहीं किया गया था। हम आपको सुनिश्चित करना चाहते हैं कि इसे सुधार लिया जाएगा। हम तीन हफ्ते के भीतर उस सीन में बुक कवर को ब्लर या वॉइसओवर को हटा देंगे। एक बार फिर से प्लीज अनजाने में आपकी भावनाओं को ठेस पहुचाने के लिए हमारी माफी स्वीकार करें।




क्या है विवाद?

दिग्गज हिन्दी राइटर सुरेंद्र मोहन पाठक का नॉवेल 'धब्बा' को मिर्जापुर 2 वेबसेरीज के एपिसोड 3 में कुलभूषण खरबंदा पढ़ते दिखाई देते हैं। और उसी समय वॉइसओवर शुरु होता है। जिसमें कामोत्तेजक(Erotic) या यौन सम्बन्धित सीन का विवरण किया जाता है। सुरेंद्र मोहन पाठक ने आरोप लगाया था कि किताब के कंटेंट से वॉइसओवर का कोई तालुकात नहीं है। उन्होंने एक्सेल प्रोडक्शन कम्पनी को नोटिस भेजकर इस वेब- सिरीज से उस सिन को हटाने की मांग की थी। साथ ही उन्होंने ने चेताया था कि अगर कोई जवाब नहीं मिला तो वह दिल्ली हाइकोर्ट जाएंगे। सुरेंद्र मोहन पाठक के अनुसार निर्माता ने खराब लाइनों का उपयोग किया है। और इन लाइनों को उनके नॉवेल का कंटेंट से सम्बंधित बताया गया। वॉइसओवर में बलदेव राज नाम के किरदार का जिक्र हुआ है। जबकि सुरेंद्र मोहन पाठक के अनुसार उनके किताब में इस नाम के किसी भी किरदार का उल्लेख नहीं हैं।

✍️✍️ सूर्याकांत शर्मा ✍️✍️


कोई टिप्पणी नहीं:

टिप्पणी पोस्ट करें

अपना सुझाव यहाँ लिखे