अलविदा 2020 : कोरोना के खौफ से भरे साल 2020 में खेल जगत ने की वापसी - Bihari karezza - Khabre Bihar Ki

Breaking

मंगलवार, 29 दिसंबर 2020

अलविदा 2020 : कोरोना के खौफ से भरे साल 2020 में खेल जगत ने की वापसी

 साल 2020 कोरोना के भयावह मंजर से भरा रहा। पूरा विश्व इसका मुकाबला करने में व्यस्त रहा। इसने हर सेक्टर को नुकसान पहुंचाया। इसमें से एक खेल जगत भी रहा। न जाने कितनी टूर्नामेंट रद्द करने पड़े। ओलंपिक समेत विश्व औए ऐशियाई चैंपियनशिप जैसे बड़े आयोजन टालने पर विवश होना पड़ा। साहस दिखाते हुए मेजमान टीम इंग्लैंड और वेस्टइंडीज के बीच क्रिकेट मैच शुरू हुआ। फिर बायो बबल सिस्टम आया जिसमें खिलाड़ीयों की मानसिक परीक्षा हुई। वेस्टइंडीज का इंग्लैंड दौरा सफल होने के बाद। खेल जगत कुछ हद तक पटरी पर लौटा।


Olympic logo Tokyo

भारतीय क्रिकेट टीम के नाम हुआ एक अनोखा रेकॉर्ड

 ये साल भारतीय टीम के लिए अनोखा साबित हुआ। भारतीय टीम ने अपने टेस्ट इतिहास का सबसे न्यूनतम स्कोर बनाया। और 36 रन बनाकर पूरी टीम पवेलियन लौट गई। कोई भी खिलाड़ी दहाई अंक तक नहीं पहुंच सका।


आईपीएल का आयोजन यूएई में

कोरोना महामारी के कारण आईपीएल के आयोजन यूएई में हुआ। जो सफलतापूर्वक सम्पन हुआ। मैच भले ही बिना दर्शकों के खेले गए। लेकिन टीवी,सोशल मीडिया और इंटरनेट ने दर्शकों को निराश नहीं होने दिया। आईपीएल को पिछली साल से ज्यादा लोगों ने देखा। मुम्बई ने दिल्ली कैपिटल्स को हराकर खिताब जीता। इसके अलावा मुम्बई और किंग्स इलेवन पंजाब के मैच में दो सुपर ओवर खेले गए।


Mumbai indians IPL champions

कोरोना के कारण खेल जगत को काफी नुकसान उठाना पड़ा 

 फुटबॉल में अब तक लगभग 11 अरब रुपये का नुकसान फुटबॉल को हो चुका है।  

 55 देशों के क्लबों को 1.35 खरब रुपये का नुकसान सहना पड़ा है।

अगले साल तक यूरोपीय क्लबों को 3.37 खरब रुपये का नुकसान होने का अनुमान है।     

क्रिकेट जगत को 10 अरब से ज्यादा रुपयों का हुआ घटा।क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया ने 200 से ज्यादा कर्मचारियों को नौकरी से हटाया। खिलाड़ियों के वेतन भी काटे गए।              

इंग्लैंड क्रिकेट बोर्ड ने 20 फीसदी से ज्यादा कर्मचारियों की छंटनी की। खिलाड़ियों ने भी वेतन में कटौती कराई।


धौनी का क्रिकेट से सन्यास

भारतीय टीम के पूर्व कप्तान महेन्द्र सिंह धोनी ने अपने इंस्टाग्राम पर छोटा सा संदेश के द्वारा सन्यास की घोषणा कर सब को चौंका दिया। उनकी विदाई चर्चा का विषय रहा। इनकी आईपीएल टीम चेन्नई सुपरकिंग्स का प्रदर्शन इस साल अच्छा नहीं रहा। उनकी टीम प्लेऑफ से बाहर होने वाली पहली टीम बनी।


Ms Dhoni

स्टेडियम में पसरा रहा सन्नाटा 

विश्व इतिहास में शायद यह पहला मौका था। जब मैचों का आयोजन दर्शकों के बिना किया जा रहा था। खिलाड़ियों को भी दर्शकों की कमी काफी खली। हालांकि कुछ वक्त बाद दर्शकों की वापसी हुई।


भारतीय खेल भी ठहर से गए

ये साल खिलाड़ी अपने ज़ेहन में कभी नहीं लाना चाहेंगे। हॉकी और एथेलेटिक्स के कैंप बड़ी ही सावधानी के साथ संचालित किये गए। बॉक्सिंग और कुश्ती के कैंप भी शुरू किए गए। एथलीटों की ओलंपिक क्वालीफाई करने वाली प्रतियोगिताएं स्थगित कर दिया गया। उधर टोक्यो ओलंपिक एक वर्ष के लिए टाल दिए गए।


Avinash Sable

पिछले माह दिल्ली में हुई हाफ मैराथन में अविनाश साबले ने ऐतिहासिक दौड़ लगाते हुए 21 किलोमीटर की दूरी 61 मीनट के अंदर पूरी की। इसी के साथ यह कारनामा करने वाले अविनाश पहले भारतीय बने। 


हैमिल्टन ने माइकल शुमाकर के रिकॉर्ड की बराबरी की

फॉर्मूला वन रेस में ब्रिटिश ड्राइवर लुइस हैमिल्टन ने खिताब जीत कर जर्मनी के माइकल शुमाकर का सात बार विश्व चैंपियन बनने का रिकॉर्ड की बराबरी की। हैमिल्टन ने लगातार चौथी बार ये खिताब अपने नाम किया। हैमिल्टन ने अपने 13 वर्ष के फॉर्मूला वन रेस करियर में सात बार ये खिताब अपने नाम किया।


20 ग्रैंड स्लैम जीत नडाल ने रोजर फेडरर की बराबरी की

इस साल कोरोना की वजह से फ्रेंच ओपन और यूएस ओपन ग्रैंड स्लैम ही हो सके। फ्रेंच ओपन में स्पेन के राफेल नडाल ने सर्बिया के नोवाक जोकोविच को 6-0,6-2,7-5 से हराया। इसी के साथ नडाल ने 13वीं बार फ्रेंच ओपन का खिताब अपने नाम किया। नडाल ने 20वां ग्रैंड स्लैम जीत कर स्विट्जरलैंड के रोजर फेडरर की बराबरी की।


Tafseel Nadal

सुमित नागल ने 7 साल का इंतजार खत्म किया

सुमित नागल ग्रैंड स्लैम में पुरुषों की एकल स्पर्धा के दूसरे दौर में जगह बनाने वाले दूसरे भारतीय बने। इससे पहले 2013 में सोमदेव देववर्मन ने यूएस ओपन,फ्रेंच ओपन और ऑस्ट्रेलियन ओपन के दूसरे दौर में जगह बनाई थी। सुमित नागल ने यूएस ओपन के पहले दौर में अमेरिका के ब्रैडली क्लैन को 6-1, 6-3, 3-6, 6-1 से हराया था।


Sumit Nagal

इस साल अब तक 19 टेस्ट मैच खेले जा चुके हैं। इंग्लैंड ने सर्वाधिक 9 मैच खेले हैं। जिसमें छह जीते एक हारे और दो ड्रॉ रहा। भारत ने 4 टेस्ट खेले हैं और जिसमें एक जीते और तीन में हार का सामना करना पड़ा।

सात टेस्ट इंग्लैंड के बेन स्टोक्स ने खेले इस साल और 641 रन बनाए।


रिपोर्ट :-✍️सूर्याकांत शर्मा




कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

अपना सुझाव यहाँ लिखे