बिहारी करेजा के निर्देशक सिंह आदर्श जी का लोक जनशक्ति पार्टी के अध्यक्ष चिराग पाशवान जी के साथ खास बात-चित एवम् साक्षात्कार। - Bihari karezza - Khabre Bihar Ki

Breaking

रविवार, 23 जनवरी 2022

बिहारी करेजा के निर्देशक सिंह आदर्श जी का लोक जनशक्ति पार्टी के अध्यक्ष चिराग पाशवान जी के साथ खास बात-चित एवम् साक्षात्कार।

 बिहारी करेजा के निर्देशक सिंह आदर्श  जी का लोक जनशक्ति पार्टी के अध्यक्ष चिराग पाशवान जी के साथ खास बात चित एवम् साक्षात्कार। 


सवाल - कुछ देर पहले आपका चुनाव का लिस्ट जारी हुआ है, योगी आदित्यनाथ जी के कार्यो को कैसे देखते है अप कितने मजबूती से आपकी पार्टी ये चुनाव लड़ने जा रही है? 

उत्तर - यूपी और उत्तराखंड मे पार्टी अकेले कुछ सीटो पर जहा पार्टी का जनाधार मजबूत है जहा संगठन मजबूत है उन जगहो को चिंहित कर वहाँ पार्टी चुनाव लड़ेगी । 



सवाल - अभी जो बिहार मे स्थानीय निकाय कोटे से विधान परिषद चुनाव होने जा रहा है ,  उसमे आपके पार्टी का क्या योगदान है?

उत्तर - इस चुनाव मे भी बिहार प्रदेश संसदीय बोर्ड की तरफ से नव प्रदेश इकाई के तरफ से यह लिखित सुझाओ केंद्रिये संसदीय बोर्ड को दिया गया था की इन चुनावो मे भी पार्टी को अकेले ही यहाँ पर चुनाव लड़ना चहिय तो इसलिए बिना किसी गठबंधन के कुछ सीटो पर जो एमएलसी के चुनाव होने है उसमे पार्टी कुछ सीटो पर अकेले चुनाव लड़ेगी बिना किसी गठबंधन के और नामो को लेकर, संभावीत प्रत्याशियों  को लेकर जो चर्चा का दौर चल रहा है जो की 1-2 दिनों के अंदर इसकी औपचारिक घोषणा कर दी जाएगी। 



    चिराग पाशवान जी से सिंह आदर्श जी का खास बात-चित


सवाल - पटना मे हत्या डकैती का दौर जारी है, एक स्वर्ण वेवशाइ की हत्या हुई, फिर गांधी मैदान मे दुकान मे करोरो की चोरी हुई ,  इसपे क्या कहना चाहेंगे आप? 


उत्तर - देखिये लोगो को अब ये दर्शाता है की अपराधियों का डर भय कानून सरकार से उठ चुका है ,  आज जिस तरीके से पटना मे ये लूट हुई है और बड़ी लूट हुई है ये दर्शाता है की कानून व्यवस्था पूरी तरह से बिहार सरकार मे चरमरा गयी है। हम ये बात बार बार उठाते है पर जो हमारे प्रदेश के गृह मंत्री  है वो ही हमारे प्रदेश के मुख्यमंत्री भी है पर उन्होंने अपनी आँख इन तमाम विषयो पर पूरी तरीके से बंद कर रखे है । 



सवाल - जहरीली शराब पीने से 11 लोगो की मौत का ज़िम्मेदार कौन? 

उत्तर - हमारे मुख्यमंत्री को सिर्फ शराब बंदी कानून दिखती है, पर वो कानून मे भी वो पूरी तरीके से विफल है।  वो इस कानून को पूरी तरीके से धरातल पर उतार नही पा रहे और इससे ये दिखता है की मुख्यमंत्री के पास अब उच्च क्षमता नही बची । जब ये एक कानून को नही चला पा रहे तो बाकी कानूनों को कैसे चला पाएंगे, यह अपने मे एक बड़ा प्रश्न भी है। छपरा से पहले हमलोग नालंदा गए थे, मुज़फ्फरपुर, वैशाली गए थे, चंपारण गए थे, कौन सा जिला हमलोग नही गए , आप ही बताइये कहा मौत नही हुई है जहरीली शराब पीने से । ये दिखाती है की सरकार अपना शासन प्रशासन पर से कंट्रोल खो चुकी है। इन सब वजह से हमलोगो ने राज्यपाल जी से अनुरोध किया है की बिहार मे राष्ट्रपति शासन लागू होनी चाहिए। 



सवाल - बिहार मे शिक्षा का स्तर गिरते जा रहा है, और अभी ही पटना विश्यविद्यालय मे भी फीस बढ़ा दिया गया है  ? 


उत्तर- सरकार सोच रही है की कैसे पैसों को और राजस्व को बढ़ाया जाए तो ये सब तरीका वो अपना रही है।आप जनता को सुविधा के नाम पर कुछ देंगे नही किंतु उनसे उल्टा आप टैक्स के नाम पर लूटेंगे , ये ही काम अब बस सरकार की बची है। 



सवाल -मोदी का हनुमान आप खुद को बताते थे तो वो मोह अभी भी है या खत्म हो गई ? और लालू यादव हमेसा आपके पक्ष मे बोलते है तो तेजस्वी - चिराग का मिलन संभव है या नही? 


उत्तर - आपके दोनो सवालो का एक ही उत्तर दूंगा की देखिये तेजस्वी - चिराग की बात है तो कुछ वेक्तिगत संबन्ध होते है जिनको राजनीति से दूर रखनी चाहिए। रहा बात राम हनुमान की बात मोदी जी के साथ तो मेरे प्रधानमंत्री जी के साथ भी मेरी व्यक्तिगत रिश्ता है । मेरे कठिन परिष्तिथि मे प्रधानमंत्री जी मेरे साथ खड़े रहे है, पिता जी जब अस्पताल मे थे तब उस समय भी वो हमेसा मेरे साथ थे तो जो बुरे और कठिन समय मे आपका साथ थे उनको कभी भूलना नही चाहिए उनको हमेसा याद रखने की जरूरत है। 

तो जो प्रधानमंत्री जी तथा तेजस्वी जी - लालू जी से मेरे व्यक्तिगत संबंध है उन्हे राजनीतिक नजरिये से ना देखा जाए वो मेरे व्यक्तिगत संबंध ही है। आगे गठजोड़ की बात होगी तो देखेंगे पर आज के तारीख मे लोक जनशक्ति पार्टी अकेले जनाधार के बदौलत परचम लहरायेगी 




सवाल - अरुण कुमार जी आपके पार्टी से जुड़े है क्या कहना चाहते है इसपे? और युवाओ को क्या संदेश देंगे आप? 


उत्तर - अरुण जी बहुत ही सम्मानित और बड़े नेता है, और उनके आने से संगठन मजबूत हुई है । और उनके अनूभवो से पार्टी को निश्चित ही फायदा होगी। 

और रही बात बिहार के युवाओ की तो मै उन्ही के लिए ही लड़ रहा हुँ, अगर मुझे कुछ महत्वकांछा होती तो मै ये सुख सुविधा का त्याग नही करता , और मेरे पास बहुत सारी मौका आई किंतु मै अपनी फायदे के लिए नही बल्कि युवाओ के लिए लड़ रहा हुँ। आने वाले समय मे भी बिहारी भाईयो के लिए शिक्षा रोजगार  कैसे उत्पन्न हो इसी लक्ष्य के साथ हमेसा से राजनीति मे रहा हुं। 



अमृत राज की रिपोर्ट


कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

अपना सुझाव यहाँ लिखे