चंपारण के लाल सकीबुल गनी का बड़ा कमाल, रणजी क्रिकेट में जड़ दिए ताबड़तोड़ 341 रन - Bihari karezza - Khabre Bihar Ki

Breaking

रविवार, 20 फ़रवरी 2022

चंपारण के लाल सकीबुल गनी का बड़ा कमाल, रणजी क्रिकेट में जड़ दिए ताबड़तोड़ 341 रन

 

रणजी क्रिकेट के रिकॉर्ड में 300 से ज्यादा का स्कोर खड़ा करने वाले सकीबुल गनी दुनिया के पहले क्रिकेटर बन गए हैं। कोलकाता में खेले जा रहे ट्रॉफी में मिजोरम के खिलाफ खेलते हुए सकीबुल ने 341 का निजी स्कोर खड़ा कर दिया है। 22 वर्षीय सकीबुल चार भाइयों में सबसे छोटे हैं। सफलता की इस सीढ़ी पर पहुंचने के लिए सकीबुल के परिवार के सदस्य खुश हैं।











मोतिहारी (बिहार)  मोतिहारी के एक युवा खिलाड़ी ने रणजी ट्रॉफी में खेलते हुए विश्व रिकॉर्ड बनाया है। इसके बाद घर में खुशी का माहौल बना हुआ है। मोतिहारी नगर के अगरवा मुहल्ला में रहनेवाले सकीबुल गनी ने मोतिहारी के एलेवन स्टार क्रिकेट क्लब से अपने कैरियर की शुरुआत की थी।

बता दें कि मुहल्ले के बच्चों के साथ सकीबुल ने महज 8 साल की उम्र में क्रिकेट खेलना शुरू किया था। राजकीय टीम के खिलाड़ी रहे बड़े भाई फैसल गनी की देखरेख में उनका क्रिकेट परवान चढ़ा और आज रणजी में ताबड़तोड़ 341 रनों की पारी खेल उन्होंने अपनी खास पहचान बना ली. रणजी ट्रॉफी में बिहार टीम की ओर से खेलते हुए उन्होंने मिजोरम के खिलाफ यह विश्व रिकॉर्ड बनाया है।










रणजी क्रिकेट के रिकॉर्ड में 300 से ज्यादा का स्कोर खड़ा करने वाले सकीबुल गनी दुनिया के पहले क्रिकेटर बन गए हैं. कोलकाता में खेले जा रहे ट्रॉफी में मिजोरम के खिलाफ खेलते हुए सकीबुल ने 341 का निजी स्कोर खड़ा कर दिया है। 22 वर्षीय सकीबुल चार भाइयों में सबसे छोटे हैं। सफलता की इस सीढ़ी पर पहुंचे सकीबुल के परिवार के सदस्य खुश हैं। सकीबुल की मां अजमा खातून बताती हैं कि खेल के प्रति सकीबुल का लगाव बचपन से था। परिवार के सभी सदस्य उसकी रुचि में सार्थक सहयोग करते थे। पढ़ाई के बाद वह सिर्फ खेला ही करता था और परिवार के किसी भी सदस्य ने इसके लिए उसने न तो कभी टोका और न कभी रोका।यहां तक का उसका बड़ा भाई फैसल उसे अपने साथ खेलाता था और खेल के गुर सिखाता रहा।


अपनी खुशी का इजहार करते हुए मो. मनान गनी बताते हैं कि विश्वस्तर पर नाम को रोशन करे और चम्पारण मोतिहारी में सितारा बने। परिवार के सभी सदस्य सकीबुल की सफलता से खुश हैं और सफलता के नए प्रतिमान गढ़े यही परिजनों की कामना है। सकीबुल के कोच रहे बड़े भाई फैसल गनी का कहना है कि सकीबुल शुरू से ही प्रतिभावान खिलाड़ी रहा है। कभी-कभी गलती करता और समझाने बताने पर तुरंत सुधार भी करता है।



स्वीटी शर्मा....... ✍️



कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें

अपना सुझाव यहाँ लिखे